मां देवी का पर्व : आज से शुरू हुए चैत्र नवरात्रि पर्व, माता घोड़े पर सवार होकर आएंगी, पहले दिन दो शुभ मुहूर्तों का हो रहा निर्माण Festival of Mother Goddess
July 15, 2024
Daily Lok Manch
Recent

मां देवी का पर्व : आज से शुरू हुए चैत्र नवरात्रि पर्व, माता घोड़े पर सवार होकर आएंगी, पहले दिन दो शुभ मुहूर्तों का हो रहा निर्माण

आज से चैत्र नवरात्रि प्रारंभ हो गए हैं। हिंदू धर्म में चैत्र नवरात्रि का विशेष महत्व होता है। एक वर्ष में कुल चार नवरात्रि आती है, पहला चैत्र नवरात्रि, दूसरा शारदीय नवरात्रि और दो गुप्त नवरात्रि। हिंदू पंचांग के अनुसार चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से चैत्र नवरात्रि आरंभ हो जाती है। चैत्र नवरात्रि के शुभारंभ होने के साथ ही नया हिंदू वर्ष भी आरंभ होता है। चैत्र नवरात्रि पर लगातार 9 दिनों तक मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा-अर्चना और मंत्रोचार किया जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार नवरात्रि पर देवी दुर्गा पृथ्वी लोक आती है और अपने सभी भक्तों की हर एक मनोकामना को पूर्ण करती हैं। चैत्र नवरात्रि में माता घोड़े पर सवार होकर आएंगी।चैत्र नवरात्र के पहले दिन यानी प्रतिपदा तिथि पर सर्वार्थ सिद्धि योग और अमृत सिद्धि योग का निर्माण हो रहा है। इस वर्ष चैत्र नवरात्रि का पावन पर्व 9 अप्रैल,मंगलवार से शुरू हो रहे हैं और समापन 17 अप्रैल को राम नवमी पर होगा। चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से हिंदू नव वर्ष की शुरुआत होती है। मान्यता है कि इसी तिथि पर ब्रह्मा जी ने सृष्टि की रचना की थी। इसी दिन से विक्रम संवत के नए साल की शुरुआत होती है। धरती के अपनी धूरी पर घूमने और धरती के सूर्य का एक चक्कर लगाने के बाद जब दूसरा चक्र प्रारंभ होता है तभी हिंदू नववर्ष मनाया जाता है। इस दिन गुड़ी पड़वा, उगादी और चैत्र नवरात्रि का त्योहार मनाया जाता है। हर साल चैत्र नवरात्रि पूरे देश में बहुत ही धूमधाम और भव्यता के साथ मनाई जाती है। नवरात्रि का शाब्दिक अर्थ है नौ रातें। यह त्यौहार नौ रातों तक मनाया जाता है, जिसमें देवी दुर्गा के नौ रूपों की पूजा की जाती है। इस साल चैत्र नवरात्रि 9 अप्रैल से शुरू होगी और 17 अप्रैल तक चलेगी।

इस बार पूरे नौ दिन की नवरात्रि–

अब की बार के चैत्र नवरात्रि नौ अप्रैल से शुरू होंगे, जो 17 अप्रैल को रामनवमी के दिन समाप्त होंगे। इस साल चैत्र शुक्ल की प्रतिपदा तिथि 08 अप्रैल को रात 11:50 मिनट से शुरू होगी। यह तिथि नौ अप्रैल को संध्याकाल 08:30 मिनट पर समाप्त होगी। हिंदू धर्म में उदया तिथि ही मानी जाती है इसलिए नौ अप्रैल को कलश स्थापना होगी। देवी दुर्गा के नौ रूप हैं – मां शैलपुत्री, मां ब्रह्मचारिणी, मां चंद्रघंटा, मां कुष्मांडा, मां स्कंदमाता, मां कात्यायनी, मां कालरात्रि, मां महागौरी और मां सिद्धिदात्री

कलश स्थापना का समय–

विशेषज्ञों के अनुसार उदया तिथि के अनुसार नौ अप्रैल को कलश स्थापना का समय सुबह 05:52 बजे से 10:04 बजे तक है। इसके अलावा 11:45 मिनट से दोपहर 12:35 मिनट तक अभिजीत मुहूर्त है। इन दोनों मुहूर्त में घट स्थापना कर सकते हैं। चैत्र नवरात्र के पहले दिन यानी प्रतिपदा तिथि पर सर्वार्थ सिद्धि योग और अमृत सिद्धि योग का निर्माण हो रहा है। इस दिन अमृत और सर्वार्थ सिद्धि योग का निर्माण सुबह 07 बजकर 32 से हो रहा है। ये दोनों योग संध्याकाल 05 बजकर 06 मिनट तक हैं।

विक्रम संवत 2081 की शुरुआत–

चैत्र नवरात्र में मां दुर्गा इस बार घोड़े पर सवार होकर आएंगी। मां दुर्गा का वाहन इस बात पर निर्भर करता है कि नवरात्रि का पर्व किस दिन से आरंभ हो रहा है। पंचांग के अनुसार इस साल नवरात्रि का आरंभ नौ अप्रैल मंगलवार से हो रहा है। इसलिए मां दुर्गा का वाहन अश्व यानी घोड़ा होगा। 17 अप्रैल यानी बुधवार को नवरात्रि का समापन होगा और माता रानी हाथी पर प्रस्थान करेंगी। माता का हाथी पर सवार होकर प्रस्थान करना शुभ संकेत है। नौ अप्रैल से चैत्र शुक्ल प्रतिपदा के साथ ही विक्रम संवत 2081 की शुरुआत होगी। इसके एक दिन पहले सोमवती अमावस्या पड़ेगी और इस दिन स्नान व दान करना उचित माना गया है।

इस प्रकार रहेगी नवरात्रि की तिथि, पहले दिन मां शैलपुत्री की जाती है उपासना–

प्रतिपदा (मां शैलपुत्री): 9 अप्रैल 2024

द्वितीया (मां ब्रह्मचारिणी): 10 अप्रैल 2024

तृतीया (मां चंद्रघंटा): 11 अप्रैल 2024

चतुर्थी (मां कुष्मांडा): 12 अप्रैल 2024

पंचमी (मां स्कंदमाता): 13 अप्रैल 2024

षष्ठी (मां कात्यायनी): 14 अप्रैल 2024

सप्तमी (मां कालरात्रि): 15 अप्रैल 2024

अष्टमी (मां महागौरी): 16 अप्रैल 2024

नवमी (मां सिद्धिदात्री): 17 अप्रैल 2024

Related posts

Pm Modi Gandhi Jayanti Rajerthan Madhya Pradesh visit पीएम मोदी का 2 अक्टूबर को राजस्थान और मध्य प्रदेश दौरा

admin

8 जनवरी, सोमवार का पंचांग और राशिफल

admin

Himachal Pradesh Shimla : शिमला में प्रॉपर्टी टैक्स में 4 फीसदी की गई बढ़ोतरी, अब लोगों पर ज्यादा पड़ेगा बोझ, भाजपा ने किया विरोध

admin

Leave a Comment