इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण कल, देश में आंशिक रूप से दिखाई देने पर सूतक काल का प्रभाव नहीं - Daily Lok Manch PM Modi USA Visit New York Yoga Day
May 24, 2024
Daily Lok Manch
धर्म/अध्यात्म राष्ट्रीय

इस साल का आखिरी चंद्र ग्रहण कल, देश में आंशिक रूप से दिखाई देने पर सूतक काल का प्रभाव नहीं

हिंदू धार्मिक दृष्टि से कल बड़ा महत्वपूर्ण दिन है। 19 नवंबर को कार्तिक पूर्णिमा के साथ चंद्र ग्रहण भी लग रहा है। शुक्रवार को लगने वाले चंद्र ग्रहण को लेकर खगोल वैज्ञानिकों और ज्योतिषियों में उत्सुकता का माहौल है। कल एक तरफ जहां इस महीने सबसे बड़े और सबसे ज्यादा शुभ फल देने वाले ग्रह बृहस्पति अपनी राशि बदलेंगे, तो दूसरी तरफ साल 2021 का आखिरी चंद्रग्रहण भी लगेगा।वैज्ञानिक इसे एक खगोलीय घटना ही मानते हैं जबकि धार्मिक नजरिए से ग्रहण लगना अशुभ माना जाता है । हालांकि इस बार ‘सूतक काल’ नहीं रहेंगे। (ग्रहण के दौरान और सूतक काल लगने पर कई शुभ कार्यों को करना वर्जित हो जाता है) फिर भी चंद्र ग्रहण के दौरान विशेष सावधानी बरतनी चाहिए। खगोलविदों का कहना है कि इस आंशिक चंद्र ग्रहण की अवधि बहुत लंबी होगी और संयोगवश ऐसा तकरीबन 580 साल बाद होने जा रहा है । इससे पहले इतनी लंबी अवधि का चंद्र ग्रहण 18 फरवरी 1440 को लगा था। अब भविष्य में चंद्र ग्रहण की ऐसी घटना 8 फरवरी 2669 में देखने को मिलेगी। खगोलविदों का दावा है कि धरती से चंद्रमा की अधिक दूरी होने के कारण चंद्र ग्रहण की अवधि लंबी होगी । 19 नवंबर को भारतीय समयानुसार चंद्र ग्रहण की शुरुआत दोपहर 11 बजकर 34 मिनट से होगी और इसकी समाप्ति शाम 5 बजकर 33 मिनट पर। खंडग्रास ग्रहण की कुल अवधि 03 घंटे 26 मिनट की होगी। उपच्छाया चंद्र ग्रहण की कुल अवधि 05 घंटे 59 मिनट की होगी। बता दें कि अभी गुरु-शनि मकर राशि में स्थित हैं और आंशिक चंद्र ग्रहण हो रहा है। गुरु-शनि मकर राशि में और चंद्र ग्रहण का योग 2021 से 59 साल पहले 19 फरवरी 1962 को हुआ था। कल का ग्रहण वृषभ राशि में हो रहा है, चंद्र इसी राशि में रहेगा।


देश के पूर्वोत्तर राज्यों में ही कुछ देर के लिए दिखाई देगा ग्रहण–


बता दें कि ये आंशिक चंद्र ग्रहण भारत के उत्तर-पूर्वी राज्यों में बहुत ही कुछ समय (एक या दो मिनट) के लिए ही दिखाई देगा। (अरुणाचल प्रदेश और असम के कुछ हिस्सों में) देश में यह चंद्र ग्रहण उपच्छाया होने के कारण इसका सूतक काल मान्य नहीं रहेगा। ज्योतिष और धार्मिक नजरिए से उपच्छाया चंद्र ग्रहण को ग्रहण नहीं माना जाता है इसी कारण से इसका सूतक काल मान्य नहीं होगा। सूतक काल मान्य न होने कारण किसी भी तरह की पाबंदी नहीं रहेगी। चंद्र ग्रहण अमेरिका, उत्तरी यूरोप, पूर्वी एशिया, ऑस्ट्रेलिया, अंटार्कटिका और प्रशांत महासागर जैसी कुछ चुनिंदा जगहों से ही देखा जा सकेगा। आंशिक चंद्र ग्रहण होने की वजह से इसके लिए सूतक काल भी मान्य नहीं होगा।


पृथ्वी परिक्रमा करते समय सूर्य और चंद्र के बीच आ जाती है तब चंद्र ग्रहण लगता है–


जब पृथ्वी परिक्रमा करते समय सूर्य और चंद्र के बीच आ जाती है, ये तीनों ग्रह एक सीधी लाइन में आ जाते हैं, तब चंद्र ग्रहण होता है। इस स्थिति में सूर्य की रोशनी चंद्र तक पहुंच नहीं पाती है और चंद्र दिखाई नहीं देता है। जब पृथ्वी और सूर्य के बीच में चंद्र आ जाता है, तब सूर्य ग्रहण है। चंद्र ग्रहण को लेकर पौराणिक धार्मिक मान्यता है कि समुद्र मंथन के दौरान स्वर्भानु नामक एक दैत्य ने छल से अमृत पान करने की कोशिश की थी। तब चंद्रमा और सूर्य की इस पर नजर पड़ गई थी। इसके बाद दैत्य की हरकत के बारे में चंद्रमा और सूर्य ने भगवान विष्णु को जानकारी दे दी। भगवान विष्णु ने अपने सुदर्शन चक्र से इस दैत्य का सिर धड़ से अलग कर दिया। अमृत की कुछ बंदू गले से नीचे उतरने के कारण ये दो दैत्य बन गए और अमर हो गए।

Related posts

Rajasthan Suspend Minister Rajendra Singh Gudha Marshals manhandled VIDEO : राजेंद्र सिंह गुढ़ा से विधानसभा में मार्शलों ने की धक्का-मुक्की, सदन में भी कांग्रेस विधायक से हुई भिड़ंत, कैमरे के सामने रो पड़े पूर्व मंत्री, राजस्थान में “लाल डायरी पर सियासत”, देखें वीडियो

admin

VIDEO Breaking Rahul Gandhi Defamation case : सूरत कोर्ट के राहुल गांधी को दो साल की सजा सुनाए जाने के बाद दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने की लंबी बैठक, पार्टी हाईकमान ने लिया बड़ा फैसला, देखें वीडियो

admin

Goodbye 2022 : न्यूजीलैंड-ऑस्ट्रेलिया में नया साल का हुआ आगाज, रोशनी से नहाया ऑकलैंड-सिडनी, भारत में 2023 का स्वागत करने के लिए मनाली-शिमला, मसूरी, नैनीताल और कश्मीर में लोगों का उमड़ा सैलाब, देखें वीडियो और तस्वीरें

admin

Leave a Comment