सुरक्षा में बड़ी चूक : संसद भवन में कार्यवाही के दौरान सुरक्षा के सभी घेरा तोड़ते हुए दो युवक सदन में कूद गए, पक्ष और विपक्ष के सभी सांसदों में मची भगदड़, देखें वीडियो - Daily Lok Manch PM Modi USA Visit New York Yoga Day
July 16, 2024
Daily Lok Manch
Recent राजनीतिक राष्ट्रीय

सुरक्षा में बड़ी चूक : संसद भवन में कार्यवाही के दौरान सुरक्षा के सभी घेरा तोड़ते हुए दो युवक सदन में कूद गए, पक्ष और विपक्ष के सभी सांसदों में मची भगदड़, देखें वीडियो

आज संसद भवन की नई बिल्डिंग में बहुत बड़ी सुरक्षा में चूक हुई है। पिछले कई दिनों से संसद का शीतकालीन सत्र चल रहा है। बुधवार को दोपहर संसद की नई बिल्डिंग में लोकसभा की कार्यवाही चल रही थी। सबसे बड़ी बात यह है कि आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत तमाम केंद्रीय मंत्री मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्रियों के हुए शपथ ग्रहण समारोह में मौजूद थे। संसद भवन में पहली बार ऐसी घटना हुई है जब दो युवक सुरक्षा के घेरे को तोड़ते हुए सदन के अंदर पहुंच गए। इसके बाद आज सदन में मौजूद तमाम केंद्रीय मंत्रियों, भाजपा और विपक्ष के सांसदों दहशत का माहौल बना रहा। आज संसद हमले की बरसी है और आज ही के दिन नई संसद के भीतर लोकसभा में जो हुआ वो सुरक्षा में चूक नहीं बल्कि बड़ी सेंध है। इस घटना की पक्ष और विपक्ष के सभी सांसदों ने चिंता जताते हुए सुरक्षा व्यवस्था पर भी सवाल उठाए हैं।

भारतीय संसद की सुरक्षा में बुधवार को बड़ी चूक देखने को मिली, जब लोकसभा की कार्यवाही के दौरान दो युवक दर्शकदीर्घा से कूदकर एक बेंच से दूसरी बेंच पर भागने लगे। हालांकि इनको पड़ककर सुरक्षाकर्मियों के हवाले कर दिया गया है। लोकसभा की कार्यवाही के दौरान बुधवार एक बजे दोपहर को दर्शक दीर्घा से दो लोग सदन के भीतर कूद गए जिससे संसद भवन में अफरा-तफरी मच गई। जब वह दोनों युवक कूदे तो उनमें से एक युवक ने स्मोग स्टिक निकालकर जलानी शुरू कर दी। इस दौरान सदन में राहुल गांधी भी बैठे हुए थे। जब विजिटर्स गैलरी से 2 युवक अचानक नीचे कूद गए। उस समय लोकसभा में बीजेपी सांसद खगेन मुर्मू अपनी बात रख रहे थे। वे सदन की बेंच पर कूदने लगे। जैसा ही युवक कूदा, राहुल गांधी चौंक गये और अपनी जगह पर खड़े हो गये. इस दौरान वह उनके आस-पास कोई भी सुरक्षाकर्मी मौजूद नहीं था. जैसा कि वीडियो में दिखाई दे रहा है सिक्योरिटी वेल में भी कोई सुरक्षाकर्मी मौजूद नहीं था। युवक को सांसदों ने मिलकर पकड़ा उसके बाद घटनास्थल पर पहुंचे सुरक्षाकर्मियों उसको वहां से लेकर चले गये। पीठासीन सभापति राजेंद्र अग्रवाल ने कार्यवाही दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी। कुछ सांसदों का कहना है कि सदन में कूदने वाले व्यक्तियों ने कुछ ऐसे पदार्थ का छिड़काव किया, जिससे गैस फैल गई। कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी का कहना है कि सदन में दो लोग कूदे। समाजवादी पार्टी के सांसद एस टी हसन ने कहा कि दर्शक दीर्घा से दो लोग लोकसभा कक्ष में कूदे और जूते से कुछ ऐसी चीज निकाली, जिससे गैस फैलनी शुरू हो गई।लोकसभा की कार्यवाही के वीडियो में देखा जा सकता है कि दोनों आरोपी एक बेंच से दूसरे बेंच पर रहे थे। भागते हुए एक शख्स ने जूते से स्पे निकाला, स्प्रे से पीला धुआं निकलने लगा। दोनों युवकों के हाथ में टियर गैस कनस्तर था। लोकसभा में सांसदों के बीच पहुंचे शख्स ने कलर स्मोक स्प्रे भी किया जिससे सदन के अंदर धुआं-धुआं हो गया। जहां धुआं हो रहा था वहां राहुल गांधी भी थे। स्प्रे होने से सारे सांसद हैरान रह गए। राहत की बात ये थी कि स्प्रे से निकलने वाला धुआं खतरनाक नहीं था वरना सांसदों को नुकसान पहुंच सकता था।

बताया जा रहा है कि जो दो लोग कार्यवाही के दौरान घुसे, उनमें एक का नाम सागर है। दोनों सांसद विजिटर पास पर सदन में आए थे। वहीं, सदन के बाहर एक महिला और पुरुष ने पीले रंग का धुआं छोड़ा। इनका नाम अमोल और नीलम है। इनके पास से कोई फोन या बैग बरामद नहीं हुआ। बाहर से गिरफ्तार हुए दोनों लोगों का दावा है कि खुद से संसद पहुंचे और उनका किसी संगठन से ताल्लुक नहीं है।समाचार एजेंसी आईएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों शख्स बीजेपी सांसद प्रताप सिम्हा के रेफरेंस के जरिए संसद में घुसे थे। प्रताप सिम्हा कर्नाटक से बीजेपी के सांसद हैं। वहीं, आरोपियों का नाम सागर शर्मा और मनोरंजन बताया जा रहा है।

एजेंसी ने सूत्रों के हवाले से बताया कि सागर शर्मा बीजेपी सांसद के रेफरेंस पर संसद में गए थे। मनोरंजन कर्नाटक का ही रहने वाला है।

नीलम ने नारेबाजी की। कहा, ‘तानाशाही नहीं चलेगी। संविधान बचाओ। मणिपुर को इंसाफ दिलाओ। महिलाओं पर अत्याचार नहीं चलेगा। भारत माता की जय।

दिल्ली पुलिस ने कुल चार लोगों को हिरासत में लिया है। इनमें दो ने संसद के अंदर स्प्रे किया जबकि दो संसद के बाहर प्रदर्शन करते समय हिरासत में लिए गए। संसद के अंदर से पकड़े गए दोनो युवकों की पहचान सागर शर्मा और मनोरंजन के रूप में हुई है। दोनों मैसूर के रहने वाले हैं।
संसद के बाहर प्रदर्शन करने वालों में एक महिला है। इस महिला का नाम नीलम (42) बताया जा रहा है, यह हरियाणा की रहने वाली है जबकि चौथा शख्स की पहचान महाराष्ट्र के लातूर के अमोल शिंदे (25) के रूप में हुई है।
इस घटना के बाद संसद भवन परिसर में दर्शकों का प्रवेश रोक दिया गया है। हालांकि अधिकारियों ने कहा कि अब तक दर्शकों या आंगुतकों पर “प्रतिबंध” लगाने का कोई लिखित निर्देश नहीं आया है।
लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने कहा कि घटना की उच्च स्तरीय जांच की जा रही है जिसके निष्कर्ष के आधार पर एक्शन लिया जाएगा। उन्होंने सदन में यह भी कहा कि संसद की सुरक्षा व्यवस्था की व्यापक समीक्षा होगी और सभी दलों के नेताओं से विचार-विमर्श करने के बाद सुरक्षा व्यवस्था में जरूरी सुधार किए जाएंगे।
समाजवादी पार्टी के सांसद एस टी हसन ने कहा कि दर्शक दीर्घा से दो लोग लोकसभा में कूदे और जूते से कुछ ऐसी चीज निकाली, जिससे गैस फैलनी शुरू हो गई। उन्होंने कहा, “यह गैस कैसी थी, यह कोई जहरीली गैस तो नहीं थी, पता नहीं। हमें संसद की सुरक्षा में भारी गंभीर खामी नजर आ रही है। इस तरह से तो कोई जूते में बम भी रखकर आ सकता है। सवाल ये है कि आखिर चंद लोगों की प्लानिंग ने कैसे अभेद्य सुरक्षा को भेद लिया। जो चार आरोपी हिरासत में लिए गए हैं उनका असली मकसद क्या था, फिलहाल पूरे मामले की जांच जारी है। सुरक्षा एजेंसियां इस मामले में पूरी तह तक जाने की कोशिशों में जुट गई हैं।

राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खरगे ने संसद में सुरक्षा चूक पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा,”हम आपसे अनुरोध करते हैं कि कृपया सदन को स्थगित कर दें। गृह मंत्री को आने दें और अधिक जानकारी दें।”

राज्यसभा में सदन के नेता पीयूष गोयल ने कहा, “मुझे लगता है कि राज्यसभा बड़ों का सदन है। हमें यह संदेश देना चाहिए कि इस देश की ताकत इन सब से ऊपर है। सदन की कार्यवाही जारी रहनी चाहिए। मुझे लगता है कि कांग्रेस इसका राजनीतिकरण कर रही है और यह देश के लिए अच्छा संदेश नहीं है।”

दोपहर दो बजे के बाद जब लोकसभा की कार्यवाही फिर से शुरू हुई तो लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा,”आज ही हमने अपने उन बहादुर जवानों को पुष्पांजलि अर्पित की, जिन्होंने संसद हमले के दौरान अपने प्राणों की आहुति दी और आज ही सदन के अंदर हमला हुआ क्या यह साबित करता है कि संसद की सुरक्षा में हम विफल रहे।”

अधीर रंजन चौधरी ने सवाल उठाया कि संसद में उच्च स्तर की सुरक्षा कैसे बनाए रखें? सभी सांसदों ने निडर होकर दो लोगों को पकड़ लिया लेकिन मैं जानना चाहता हूं कि जब यह सब हुआ तो सुरक्षा अधिकारी कहां थे?

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा,शून्यकाल के दौरान हुई घटना की गहन जांच की जा रही है। दिल्ली पुलिस को भी आवश्यक निर्देश दिए गए हैं। प्राथमिक जांच में पता चला है कि यह सिर्फ धुआं था और धुएं के बारे में चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है।”

कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने इस पर कहा, दो युवक गैलरी से कूद गए और उनके द्वारा कुछ फेंका गया जिससे गैस निकल रही थी। उन्हें सांसदों ने पकड़ लिया और सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें बाहर निकाला। सदन को दोपहर 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया। यह निश्चित रूप से सुरक्षा का उल्लंघन है, क्योंकि आज हम 2001 (संसद हमले) में अपने प्राणों की आहुति देने वाले जवानों की पुण्य तिथि मनाई है।

सदन में सुरक्षा में हुई चूक के बाद लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने एंट्री पास रद्द करने का लिया फैसला–

सदन में सुरक्षा चूक की घटना के बाद लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने एंट्री पास रद्द करने का फैसला लिया है। इसके अलावा, सांसदों और पूर्व सांसदों के PA के एंट्री पास को रद्द करने का आदेश दिया है। सदन में सुरक्षा चूक की घटना में चार आरोपियों को पकड़ लिया है। दो आरोपी संसद के अंदर से जबकि दो संसद के बाहर से दबोचे गए हैं। इन सभी आरोपियों से पूछताछ की जा रही है।

लोकसभा अपने स्तर पर कर रही जांच
बता दें कि, लोकसभा की कार्यवाही के दौरान बुधवार को दर्शक दीर्घा से दो लोग नीचे कूद गए और कनेस्टर के माध्यम से धुआं फैला दिया। घटना के तुरंत बाद दोनों व्यक्तियों को पकड़ लिया गया। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने बताया कि लोकसभा अपने स्तर पर जांच कर रही है तथा इस बारे में दिल्ली पुलिस को भी निर्देश दिया गया है। उन्होंने यह भी कहा कि जो धुआं सदन में फैलाया गया था वह साधारण था और इसको लेकर चिंता कोई बात नहीं है।

विपक्षी दलों की बुलाई बैठक
लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सदन में सुरक्षा चूक की घटना के बाद इस विषय पर चर्चा के लिए अपराह्न चार बजे सभी दलों के नेताओं की बैठक बुलाई है। सदन में, विपक्षी दलों के सदस्यों की नारेबाजी के बीच बिरला ने बैठक बुलाये जाने के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा, ‘‘मैंने आप सब की भावनाओं को पहले व्यक्त कर दिया है। चार बजे इस विषय पर सभी दलों की बैठक बुलाई है।” इसके बाद, बिरला ने अपराह्न करीब दो बजकर 50 मिनट पर सदन की कार्यवाही चार बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

Related posts

अल्फ्रेड नोबेल को अपने ही किए गए डायनामाइट के आविष्कार को लेकर क्यों हुआ था पछतावा, महान वैज्ञानिक की 125वीं पुण्यतिथि आज

admin

24 घंटे में दो हादसे : वंदे भारत ट्रेन के पीछे पड़े “जानवर”, कल भैंस से टकराई आज गाय के टकराने से फिर पिचका इंजन का हुलिया

admin

चैत्र नवरात्रि और नव संवत्सर को कई प्रदेशों में अलग नामों से भी मनाया जाता है, जानें विक्रम संवत के बारे में

admin

Leave a Comment