Uttarakhand Investers Summit उत्तराखंड बनेगा समृद्ध और खुलेगी विकास की नई राह, पीएम मोदी ने निवेशकों को दी गारंटी - Daily Lok Manch PM Modi USA Visit New York Yoga Day
February 20, 2024
Daily Lok Manch
Recent उत्तराखंड राष्ट्रीय

Uttarakhand Investers Summit उत्तराखंड बनेगा समृद्ध और खुलेगी विकास की नई राह, पीएम मोदी ने निवेशकों को दी गारंटी

उत्तराखंड गठन के 23 साल बाद यह पहला मौका था जब देश और विदेश के नामचीन उद्योगपति राजधानी देहरादून में जुटे । इन सभी का मकसद धामी सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट ‘उत्तराखंड समृद्ध’ को आगे बढ़ाना था। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी इस इन्वेस्टर्स समिट के लिए पिछले तीन महीनों से देश-विदेशों में जाकर राज्य के लिए अधिक से अधिक निवेश आए उसके लिए प्रयास कर रहे थे। समिट को लेकर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि यह राज्य के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में औद्योगिक निवेश से एक ओर जहां रोजगार के नये अवसर सृजित होंगे, वहीं दूसरी ओर प्रदेश की अर्थव्यवस्था को भी नई मजबूती मिलेगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के विजन के अनुरूप उत्तराखंड को देश के अग्रणी राज्यों में शामिल करने के लिए उत्तराखंड ग्लोबल इनवेस्टर्स समिट-2023 का आयोजन किया जा रहा है‌। इकोलॉजी और इकॉनमी का समन्वय बनाते हुए इस निवेश को धरातल पर उतारा जाएगा। जिससे स्थानीय लोगों के लिए रोजगार के अधिक अवसर सृजित होंगे। सीएम ने कहा कि इससे प्रदेश के विकास को अभूतपूर्व गति मिलने के साथ ही यहां की आर्थिक स्थिति को भी नई मजबूती प्राप्त होगी। सीएम धामी की मेहनत रंग लाई और उम्मीद से ज्यादा उत्तराखंड में निवेशकों ने खूब बढ़ चढ़कर करार किए। इस अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम के लिए उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में बड़े स्तर पर तैयारियां की गई । दो दिवसीय इन्वेस्टर्स समिट के पहले दिन शुक्रवार 8 दिसंबर को मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस कार्यक्रम में मौजूद सभी निवेशकों से मंच से कहा- “आप इस राज्य में खुलकर निवेश करिए मैं आपको गारंटी देता हूं”। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में उन्होंने देवभूम‍ि के व‍िकास, व‍िजन और प्लानिंग पर बात की। इस दौरान पीएम मोदी एक बार फिर उत्तराखंड आगमन पर पहाड़ी टोपी पहने हुए नजर आए। राज्य की धामी सरकार ने इस समिट का थीम ‘शांति से समृद्धि’ रखा । शुक्रवार को देहरादून पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ग्लोबल इन्वस्टर्स समिट स्थल पर लगी प्रदर्शनी को देखा और प्रतिनिधियों से बात की। ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के उद्घाटन सत्र के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 44,000 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का शुभारंभ भी किया । इन्वस्टर्स समिट में शामिल होने के लिए दुनियाभर के तमाम बड़े उद्योगपति, कारोबार जगत से जुड़ी हस्तियां, विभिन्न देशों के नेता, केंद्रीय मंत्री, कई देशों के राजदूत और अन्य प्रतिनिधि पहुंचे हैं। इसका आयोजन देहरादून के फॉरेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट में किया जा रहा है। समिट का उद्देश्य उत्तराखंड को निवेश का नया केंद्र बताना है। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा, हमने ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में निवेशकों के साथ 2.5 लाख करोड़ रुपए के समझौता प्रस्ताव पर हस्ताक्षर का लक्ष्य रखा था। मुझे बताते हुए खुशी हो रही है कि अपने लक्ष्य से अधिक निवेश के प्रस्तावों पर हस्ताक्षर किए जा चुके हैं। वैश्विक निवेशक सम्मेलन के पहले दिन 44 हजार करोड़ के निवेश प्रस्ताव पर सरकार ने निवेशकों के साथ करार किया है। राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय रोड शो, प्रदेश में जिला स्तर पर मिनी रोड शो व विभागों के स्तर पर अब तक साढ़े तीन लाख करोड़ के निवेश पर एमओयू हस्ताक्षर किए गए। इस दौरान सबसे पहले अडानी ग्रुप ने उत्तराखंड में बड़े निवेश का एलान किया। वहीं, जिंदल ग्रुप, बाबा रामदेव और आईटीसी के एमडी संजीव पुरी ने प्रदेश में निवेश के बड़े एलान किए। देहरादून के एफआरआई में आयोजित वैश्विक निवेशक सम्मेलन के शुभारंभ पर कई बड़े उद्योगपतियों ने उत्तराखंड में निवेश का एलान किया। वहीं प्रदेश सरकार ने इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी), रियल एस्टेट, हेल्थ केयर, उच्च शिक्षा, पर्यटन, फिल्म, आयुष, ऊर्जा क्षेत्र में निवेश प्रस्ताव पर एमओयू किए हैं। इसमें सरकार ने 44 हजार करोड़ के निवेश को धरातल पर उतारने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। इसके अलावा अदाणी एंटरप्राइज के निदेशक प्रणव अदाणी ने 1700 करोड़ के निवेश का एलान किया। निवेशक सम्मेलन में पहुंचे अडानी एंटरप्राइज के निदेशक प्रणव अडानी ने आमंत्रित करने के लिए प्रदेश सरकार का आभार व्यक्त किया। कहा कि देहरादून आना हमेशा सौभाग्य की बात होती है, जो मेरे ह्रदय में विशेष स्थान रखता है कहा कि उत्तराखंड की भूमि लैंड ऑफ गॉड है। राज्य में निवेश को लेकर पिछले पांच साल से यहां अप्रत्याशित बदलाव हुए हैं। सिटी गैस डिस्ट्रीब्यूशन और सीमेंट फैक्ट्री के क्षेत्र में हम उत्तराखंड में मौजूद हैं। अम्बुजा सीमेंट के रुड़की प्लांट की क्षमता बढ़ाने के लिए 300 करोड़। कुमाऊं में 800 करोड़ से हम स्मार्ट बिजली मीटर लगाने जा रहे हैं। पंतनगर में 1000 एकड़ भूमि पर एयरोसिटी बनाएंगे। ऋषिकेश देहरादून के बीच 1400 करोड़ ग्राइंडिंग यूनिट पर खर्च करेंगे। 200 स्टेट की बसें सीएनजी से चलाएंगे। जेएसडब्ल्यू के एमडी सज्जन जिंदल ने भी उत्तराखंड में बड़े निवेश का एलान किया। उन्होंने कहा कि हमारा सौभाग्य है कि हमें ऐसे प्रधानमंत्री मिले जिन्होंने हमारे देश की काया पलट कर दी है।उत्तराखंड में पांच या छह साल में 1500-1500 मेगावाट के दो पंप स्टोरेज प्लांट लगाएंगे। 15 हजार करोड़ से ऊपर का खर्च होगा और हजारों को रोजगार देगा। हमने केदारनाथ में क्लीन केदारनाथ प्रोजेक्ट शुरू किया है। प्लास्टिक वेस्ट के लिए, जो तीर्थ यात्री प्लास्टिक बोतल वेंडिंग मशीन में देंगे, उन्हें 10 रुपये मिलेंगे। इसी साल शुरू किया है। केदारनाथ में इस प्रोजेक्ट की सफलता के बाद हम अन्य धार्मिक स्थलों पर भी इसे लगाएंगे। बाबा रामदेव ने उत्तराखंड में 10 हजार करोड़ का निवेश करने और 10 हजार लोगों को रोजगार देने का एलान किया। आईटीसी के एमडी संजीव पुरी ने हरिद्वार में मैनुफैक्चरिंग कॉम्प्लेक्स, चार होटल बनाने का एलान किया। साथ ही फूड प्रोडक्ट के विस्तार का एलान किया।

पीएम मोदी ने कहा- उत्तराखंड आकर मन धन्य हो जाता है, वेड इन इंडिया की अपील की–

पीएम मोदी ने देहरादून के एफआरआई में समिट का उद्घाटन किया। पीएम ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि उत्तराखंड वो राज्य है, जहां आपको देवत्व और विकास दोनों का अनुभव एक साथ होता है और मैंने तो उत्तराखंड की भावनाओं और संभावनाओं को निकट से देखा है। मैंने उसे जिया है, अनुभव किया है। पीएम मोदी ने कहा कि यहां आकर मन धन्य हो जाता है। कुछ वर्ष पहले जब मैं बाबा केदार के दर्शन को निकला था तो अचानक मेरे मुंह से निकला था कि 21वीं सदी का ये तीसरा दशक उत्तराखंड का दशक है। मुझे खुशी है कि उस कथन को मैं लगातार पूरा होते देख रहा हूं। उन्होंने कहा कि मैं देशवासियों को भरोसा दिलाता हूं कि, मेरे तीसरे कार्यकाल में देश, दुनिया की टॉप 3 इकॉनामी में आकर रहेगा। पीएम मोदी ने निवेशक सम्मेलन में पहुंचे उद्योगपतियों से कहा कि आप सभी बिजनेस की दुनिया के दिग्गज हैं। आप अपने काम का विश्लेषण करते हैं। आप सभी चुनौती का आंकलन करके रणनीति बनाते हैं। हमें चारों तरफ आकांक्षा, आशा, आत्मविश्वास दिखेगा।पीएम मोदी ने कहा कि हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनावों से साफ है कि आकांक्षी भारत, अस्थिरता के बजाय एक स्थिर सरकार चाहता है और रेखांकित किया कि लोगों ने सुशासन और उसके ट्रैक रिकॉर्ड के आधार पर मतदान किया। प्रधानमंत्री ने ग्रामीण इलाकों से चारधाम तक जाने के काम का जिक्र करते हुए कहा कि वह दिन दूर नहीं जब दिल्ली-देहरादून के बीच की दूरी ढाई घंटे की रह जायेगी। देहरादून और पंतनगर हवाई अड्डे के विस्तार से हवाई कनेक्टिविटी मजबूत होगी। प्रदेश में हेली-टैक्सी सेवाओं का विस्तार किया जा रहा है और रेल कनेक्टिविटी को सुदृढ़ किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने उन्हें देश के पहले गांव के रूप में विकसित करने के लिए डबल इंजन सरकार के प्रयासों को रेखांकित किया। उन्होंने आकांक्षी जिलों और आकांक्षी ब्लॉक कार्यक्रम का उल्लेख किया जहां उन गांवों और क्षेत्रों पर जोर दिया जा रहा है जो विकास मानकों में पीछे हैं। उत्तराखंड के पर्यटन क्षेत्र को लेकर मोदी ने पर्यटकों को प्रकृति के साथ-साथ भारत की विरासत से परिचित कराने के उद्देश्य से थीम आधारित पर्यटन सर्किट बनाने की जानकारी दी। पीएम मोदी ने देश के अमीरों, संपन्न लोगों और युवाओं से ‘मेक इन इंडिया’ की तर्ज पर ‘वेड इन इंडिया’आंदोलन शुरू करने की अपील की। विदेश में होने वाली शादियों का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि जिस तरह से ‘मेक इन इंडिया’ है, ठीक ऐसे ही ‘वेड इन इंडिया’ भी होना चाहिए। शादी हिंदुस्तान में करो। इन दिनों हमारे देश के अमीर वर्ग के बीच ये फैशन हो गया है कि वे विदेशों में जाकर शादियां करते हैं। मैं पूछता हूं ऐसा क्यों है? मेरा आग्रह है कि अगले 5 वर्षों में आप सभी अपने परिवार की कम से कम एक डेस्टिनेशन वेडिंग उत्तराखंड में अवश्य आयोजित करें। प्रधानमंत्री ने हाउस ऑफ हिमालयाज ब्रांड लॉन्च करने के लिए उत्तराखंड सरकार को बधाई दी और इसे उत्तराखंड के स्थानीय उत्पादों को विदेशी बाजारों तक ले जाने का एक अभिनव प्रयास बताया। प्रधानमंत्री ने पोषण के नाम पर डिब्बाबंद भोजन के प्रति आगाह किया जबकि भारत मिलेट जैसे पौष्टिक भोजन में बहुत समृद्ध है। उन्होंने उपस्थित लोगों से स्थानीय उत्पाद को वैश्विक बाजारों तक पहुंचने में मदद करने के लिए कहा।
प्रथम चरण में इसमें भौगोलिक संकेतक प्राप्त राज्य के उत्पादों को रखा गया है और शीघ्र ही महिला समूहों के अन्य उत्पाद इसमे शामिल करने की योजना है।
उत्तराखंड राज्य के गठन से लेकर इसके विकास में यहां की मातृशक्ति का योगदान किसी से छिपा नहीं है। इसे देखते हुए सरकार ने महिलाओं के सशक्तिकरण के दृष्टिगत उन्हें महिला स्वयं सहायता समूहों से जोड़ने का क्रम शुरू किया। ग्राम्य विकास विभाग के अंतर्गत राष्ट्रीय व राज्य आजीविका मिशन में इन समूहों के गठन का क्रम जारी है। महिला समूहों के सामने अपने उत्पादों के ब्रांडिंग की दिक्कत आ रही थी। वजह यह कि सभी अलग-अलग नाम से उत्पादों की बिक्री कर रहे थे। प्रधानमंत्री मोदी ने पिछली बार अपनी माणा यात्रा के दौरान सुझाव दिया था कि स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए ब्रांड होना चाहिए। राज्य सरकार ने इस पर अमल करते हुए समूहों के उत्पादों का अंब्रेला ब्रांड बनाने का निश्चय किया। उच्च स्तर पर गहन मंथन के बाद ब्रांड के लिए “हाउस ऑफ हिमालयाज” नाम को अंतिम रूप दिया गया।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों इस अंब्रेला ब्रांड की लांचिंग होने से अब समूहों द्वारा तैयार उत्पाद इसी नाम से बाजार में आएंगे। साथ ही इनकी गुणवत्ता, पैकिंग आदि पर भी विशेष ध्यान केंद्रित किया गया है। महिला स्वयं सहायता समूहों से जुड़ी महिलाओं की वार्षिक आय एक लाख रुपये करने के उद्देश्य से लखपति दीदी योजना शुरू की गई है। राज्य में अब तक 40,277 महिलाएं लखपति दीदी बन चुकी हैं। वहीं मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि गुजरात के सीएम रहते हुए ”वाईब्रेंट गुजरात” नाम से इन्वेस्टर्स समिट का आयोजन शुरू किया गया था, उसी से प्रेरित होकर राज्य सरकार ने ”डेस्टिनेशन उत्तराखंड” की थीम पर इन्वेस्टर्स समिट का आयोजन किया है। ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में ढाई लाख करोड़ रूपये के निवेश प्रस्तावों को प्राप्त करने का लक्ष्य था, अभी तक लक्ष्य से अधिक के निवेश प्रस्तावों पर करार हो गये हैं। इनमें से अब तक 44 हजार करोड़ रुपये के निवेश प्रस्तावों को धरातल पर उतारने का कार्य प्रारंभ कर दिया गया है। सीएम धामी ने कहा कि उत्तराखंड में गुजरात के ”महात्मा मंदिर कन्वेंशन एंड एग्जीबिशन सेंटर” की भांति शीघ्र ही एक भव्य ”कन्वेंशन सेंटर” का निर्माण किया जाएगा।

Related posts

क्षेत्र प्रचारक ने किया प्रशिक्षण केंद्र का उद्घाटन, नए रोजगार के बढ़ेंगे अवसर

admin

यूकेएसएसएससी ने “समूह ग” की 23 परीक्षाओं के लिए अतिरिक्त परीक्षा कैलेंडर किया जारी

Bus accident दुखद हादसा : एक्सप्रेस वे पर यूपी और मध्य प्रदेश की बसों की आपस में भीषण टक्कर, 3 यात्रियों की मौत, 13 घायल

admin

Leave a Comment